शिशु कि मालिश : Baby Massage करने के 2 तरीके

by:

Baby

तो कैसे हो आप लोग, दोस्तों आप सभी का स्वागत है हमारे ब्लॉग पर और आज का आर्टिकल है कि, “शिशु कि मालिश कैसे करे”. दोस्तों अगर पुराने बुजुर्गो कि बात को याद किया जाये तो, उनका कहना होता था कि, जब शिशु baby पैदा होता है तो उसकी मासपेशिया और हड्डिया बहुत कमजोर होती है. ऐसे में अगर छोटे बच्चो कि हर रोज मालिश किया जाये तो इससे वो strong बनते है और उनका शरीर सही आकार लेता है. एक तरह से कहा जाये तो मालिश आपके बच्चे कि growth के लिए बहुत जरुरी होता है. Regular मालिश आपके और आपके बच्चे को करीब लाता है.

अगर आप एक माँ है और आप अपने बच्चे कि मालिश करना चाहती है तो आपके लिए हमारे पास अच्छे तरीके है, जिसके बारे में आपको पता होना चाहिये. सही तरीके से किया गया मालिश आपके बच्चे को benefits देगा.

शिशु कि मालिश Baby Massage करने के 2 तरीके

शिशु कि मालिश Baby Massage करने के 2 तरीके

Massage के लिये तैयारी कर ले

अगर आप सोच रही है कि, massage मालिश सीधे तरीके से करी जाती है तो आपका सोचना गलत है. आपको proper तरीके से तैयारी के साथ मालिश करनी होगी. निचे हमने कुछ tips बताये है इन्हें अपनाये.

1. जगह खूली रखे

बच्चे हो या हम, सभी को खुल्ली जगह पसंद होती है. खुल्ली जगह पर हम अच्छा फील करते है. तो अगर आप मालिश कि सोच रही है तो सबसे पहले जगह decide करे कि, बच्चे की मालिश कहा करनी है. आप massage अन्दर करे या बाहर पर जगह के साथ साथ आपको temperature का भी ध्यान देना होगा. गर्म या ठण्ड आपको देखना होगा कि, आपका बच्चा किसमे relax फील करता है.

हो सकता है कि आपका बच्चा मालिश के time पर रोये या हाथ पैर चलाये. तो ऐसे में आपको background में हल्का सा music चला देना चाहिये. इस बात का ध्यान रखे कि बच्चे कि मालिश करते वक्त lights बच्चे कि आखो पर ना पढ़े, इससे बच्चे तंग हो जाते है और रोने लग पड़ते है. आपको हमेशा मालिश करते time light dim या बंद रखनी चाहिये.

2. मालिश के लिये तेल रखे

अब बारी आती है कि, बच्चे कि मालिश के लिये कोन सा तेल इस्तेमाल करना ठीक होगा? अगर आप अपने बच्चे के प्रति serious है तो आपको तेल सोच समझ कर इस्तेमाल करना चाहिये. वेसे तो market में बहुत तरह के तेल मोजूत है. तो ऐसे में decide कर पाना बहुत मुस्किल हो जाता है कि कोन सा तेल अच्छा है. हम तो आपको यही कहेंगे कि, आप किसी अच्छे डॉक्टर से तेल के बारे में पूछे तो अच्छा होगा. हम आपको एसा इसलिये कह रहे है क्योंकि हर बच्चे कि skin अलग अलग होती है और अगर गलत तेल का इस्तेमाल आपने किया तो बच्चे को allergies का सामना करना पड़ सकता है.

3. अपने हाथ Clean रखे

इस बात का भी ध्यान रखे कि, बच्चे कि मालिश करते time अपने हाथो को साफ़ रखे. शिशु का स्किन बहुत पतला और कमजोर होता है और ऐसे में गंदे हाथ बच्चो को allergies करवा सकती है. तो एक अच्छी माँ होने के नाते हर time अपने हाथ को साफ़ रखे.

बच्चे की मालिश करे

तो दोस्तों अब बात करते है कि, बच्चे कि मालिश कैसे करे. हमने निचे step by step format बता रखे है. एक एक तरीके को फॉलो करे.

1. पहले बच्चे को Comfortable Feel करवाये

Comfortable से हमारा मतलब है कि, मालिश के time आपका बच्चा आपको तंग ना करे. एसा तभी हो सकता है जब आपका बच्चा फुल comfortable हो. गर्म कमरा और dim light के अलावा आपको कुछ बातो का ओर ध्यान रखना होगा जेसे कि :- बच्चे कि नींद पूरी हो चुकी हो, उसको भूक ना लगी हो, शिशु बिना कपडे के हो. आपको मालिश के वक्त उससे बात करनी चाहिये, ऐसे में आपका बच्चा comfortable फील करता है.

2. Starting Back Body से करे

सबसे पहले बच्चे को पेट के बल लेटाये. अब हाथो में तेल ले और बच्चे कि मालिश कि starting center से करे. उसके बाद बच्चे कि टाँगे, पैर, पैर कि उंगलिया और एडी कि मालिश करे. अच्छे से मालिश करने के बाद फिर आपको ऊपर कि तरफ जाना होगा मतलब पीठ, shoulder और सर कि तरफ. अपनी उंगलियों से पीठ कि अच्छे से मालिश करे फिर उसके बाद हल्के हाथो से shoulder कि और फिर सर कि. जब आपका पूरा हो जाये तो फिर एक बार पूरी बॉडी कि मालिश दुबारा करे. एसा ही आपको बच्चे कि front कि तरफ से करना होगा. पहले हाथो कि, फिर छाती कि और फिर पेट कि.

3. Massage हमेशा नीचे से Start करे

अब आपमें से बहुत से ये सोच रहे होंगे कि, मालिश कि शुरआत निचे से मतलब पैरो से क्यों करनी चाहिये. देखिये इसके पीछे भी एक रीज़न है. अगर आप बच्चे कि मालिश ऊपर से मतलब सर से स्टार्ट करते हो तो बच्चा uncomfortable फील करता है क्योंकि direct सर से मालिश करना बच्चे को असमंजस में डाल देता है कि ये हो क्या रहा है. अगर आप मालिश कि starting पैरो से करते हो तो बच्चे को अच्छा फील होता है.

Body के हर एक part का massage करने का एक time सेट करे मतलब कि आपको इतने मिनट तक इस area कि मालिश करनी है.

4. हल्के हाथो से मालिश करे

आपके शिशु का शरीर बहुत नाजुक होता है तो ऐसे में आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि, मालिश आपको हल्के हाथो से करनी होगी. जोर से मालिश करना या पकड़ना आपके बच्चे को दर्द दे सकता है या घाव दे सकता है. इसके साथ साथ आपको इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि, मालिश करने से पहले अपने हाथो से jewelry निकाल ले.

5. Massage मालिश हर रोज करे

कई mothers के मन में ये doubt रहता है कि, बच्चे को मालिश कब कब देनी चाहिये. देखिये अगर आप doctors से भी पूछेंगी तो सभी आपको यही ही कहेंगे की, अगर आप शिशु को हर रोज मालिश दे सको तो ऐसे में आपके बच्चे कि growth जल्दी होयेगी.

6. अगर आपको मालिश करना नहीं आता है तो आप class join कर सकती है

आप ये आर्टिकल पढ़ रही है तो नार्मल सी बात है कि आपको मालिश कि नॉलेज नहीं है. तभी तो आप मालिश कि knowledge लेने के लिये यहाँ पर आई है. देखिये अगर आपको हमारे ये सभी तरीके अच्छे से समझ नहीं आये या आपको लगता है कि हम आपको अच्छे से नहीं समझा पाये तो………. हम आपको कहेंगे की आप मालिश ना करे. आप किसी अच्छे doctors से मदद ले सकती है या आप मालिश class join कर सकती है.

तो दोस्तों हमे पूरी उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा. अगर आपके मन में और कोई सवाल है तो आप हमसे comment के through पूछ सकते है.

loading...

One Reply to “शिशु कि मालिश : Baby Massage करने के 2 तरीके”

  1. healthnuskhe says:

    आपके द्वारा प्रकाशित यह लेख जच्चा और बच्चा दोनों के लिए काफी उपयोगी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *