बच्चो को पढाई लिखाई में तेज कैसे बनाये (2 तरीके)

बच्चो को पढाई लिखाई में तेज कैसे बनाये (2 तरीके)

दोस्तों आज हम बच्चो के स्टडी के बारे में बात करने जा रहे है आज का आर्टिकल है कि, “बच्चो को पढाई लिखाई में तेज कैसे बनाये”. आप एक parents है और आपको ये पता है कि, एक इंसान की जिंदगी में पढाई लिखाई कितनी importance रखती है. आप चाहोगे कि, आपके बच्चे अच्छी पढाई लिखाई करे……. आपका नाम रोशन करे और एक अच्छी नोकरी हासिल करे.

पर आजकल के time में बहुत सारे parents अपने बच्चो के पढाई लिखाई के चक्कर में बहुत परेशानी में रहते है और ये सोचते रहते है कि, बच्चो को पढाई लिखाई में कैसे तेज करे? या बच्चो का मन पढाई में कैसे लगाये? दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में इन्ही चीजों के बारे में बात करेंगे कि, बच्चो का पढाई लिखाई में मन क्यों नहीं लगता? और बच्चो का मन पढई लिखाई में कैसे लगाये?

बच्चो को पढाई लिखाई में तेज कैसे बनाये (2 तरीके)

Children Better Study Habits In Hindi

बच्चो का पढाई लिखाई में मन क्यों नहीं लगता है

दोस्तों पहले कारणों के बारे में जान लिया जाये कि, क्यों आजकल के बच्चो का पढाई में मन नहीं लगता? निचे हमने कुछ कारणों पर चर्चा करी है आप इन्हें पढ़े और जाने.

1. ज्यादा खेलने के कारण

कई बच्चो का खेलने में बहुत ध्यान रहता है वो हर वक्त खेलने पर ध्यान देते है या हर वक्त खेलने के चक्कर में इधर उधर रहते है. ऐसे में आप ही बताये कि, बच्चो का पढाई लिखाई में मन कैसे लगेगा. माना कि, खेल कूद बहुत जरुरी है पर ज्यादा खेल कूद करना बच्चो को एजुकेशन से दूर रखता है.

2. Parents का ध्यान ना देने के कारण

कई माता पिता ऐसे होते है जो अपने बच्चो पर ध्यान ही नहीं देते, इसके पीछे बहुत से कारण हो सकते है जैसे कि :- जॉब पर ज्यादा ध्यान रहना, अपनी जिंदगी में ज्यादा ध्यान रहना, बाहरी अफेयर का होना, बच्चो से प्यार ना होना etc etc. जिस वजह से उनके बच्चे बचपन से ही फ्री महसूस करते है और अपनी मर्जी से जिंदगी जीते है ऐसे में बहुत से बच्चे पढाई लिखाई में कम ध्यान देते है.

3. ज्यादा Electronics इस्तेमाल करने के कारण

जैसा कि, आपको पता है कि, आजकल का समय electronics वाला है. छोटे हो या बड़े सभी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स इस्तेमाल करना पसंद करते है. अगर देखा जाये तो बड़ो के मुकाबले छोटे बच्चो का चस्का electronics gadgets में ज्यादा रहता है जिस वजह से वो पढाई लिखाई को ज्यादा importance नहीं देते.

4. संगती गलत होने के कारण

आपको तो पता ही होगा कि, सगती का असर जिंदगी में बहुत प्रभाव डालता है. अच्छी संगती अच्छा इंसान बनती है और बुरी संगती बुरा इंसान. तो अगर आपको लग रहा है कि, आपका बच्चा पढाई लिखाई में ज्यादा ध्यान नहीं देता है या आपका बच्चा अच्छी नंबर नहीं लाता है तो हो सकता है कि, आपके बच्चे की संगती अच्छे बच्चो के साथ ना हो.

बच्चो का पढाई में मन कैसे लगाये

तो दोस्तों अब बात करते है कि, बच्चो का पढाई में मन कैसे लगाये. निचे हमने कुछ tips बता रखे है. आप इन्हें पढ़े और अपने बच्चो पर follow करे.

1. पहले बच्चो को बताये पढाई लिखाई कितनी जरुरी है

बच्चे तो बच्चे होते है उन्हें दिन दुनिया से कोई मतलब नहीं होता है तो ऐसे में आपकी जिम्मेदारी बनती है अपने बच्चो को बताये कि, पढाई लिखाई क्यों इतनी जरुरी होती है? उन्हें बताये की बिना पढाई लिखाई के, जिंदगी में survive करना बहुत मुस्किल होता है. एक पढ़ा लिखा इंसान अपनी जरूरतों को आसानी से हासिल कर पाता है. समाज में उसका मान सम्मान होता है etc etc बाते.

2. बच्चो की पढाई की जगह Set करे

हो सकता है कि, जिस जगह आपका बच्चा पढता है या अपना स्कूल का काम करता है वो जगह बहुत तंग वाली हो या शोर गुल ज्यादा होता हो, जिस वजह से आपके बच्चे का पढाई में मन ना लग रहा हो. अक्सर कई माँ बाप इस कारण या वजह को ignore मार देते है पर ये सोचने वाली बात है. अच्छे माहोल में ही आपका बच्चा अच्छी पढाई कर सकता है.

तो अगर आप चाहते है कि, आपका बच्चा अच्छे से और मन लगा कर पढ़ सके तो आपको पहले पढाई की जगह set करनी होगी. अपने बच्चे की पढाई के लिये एक ऐसी जगह set करे जहा पर ज्यादा शोर गुल ना रहता हो और उस जगह पर ज्यादा आना जाना ना रहता हो.

3. पढाई का Time Table बनाये

सिर्फ जगह set करने से कुछ नहीं होता बल्कि आपको पढाई के लिये time table set करना चाहिये. आप एक time table का एक list बनाये और उसमे ये mention करे कि, कितने बजे उठना है, कितने बजे पढना है, कितना break time होगा, कितना खेलने का time है और कितना सोने का time है. ऐसे में आपके बच्चे सभी काम को अच्छे से कर पायेंगे.

4. बच्चो को Task पूरा होने पर कुछ दे

आप एक माता पिता है और आपका फर्ज बनता है कि, जब आपके बच्चे कुछ अच्छा करे तो आप उनका मनोबल बढ़ाये ताकि आगे जाकर वो ओर अच्छा कर सके. ये बात हर चीज़ पर लागू होती है जैसे कि :- अगर आपके बच्चे पढाई में first आये है तो आपको उन्हें कुछ गिफ्ट देना चाहिये. ऐसे में आपके बच्चो का confidence बढेगा और आपके बच्चे लालच के चक्कर में और अच्छा करेंगे.

5. हमेशा उनके साथ रहे

आपके बच्चे छोटे है और जैसे जैसे वो उम्र के साथ बढ़ेंगे वैसे वैसे वे जिंदगी में काफी दिक्कतों को face करेंगे. ऐसे में अगर बच्चो को guide करने वाला कोई ना हो तो बच्चे गलत तरफ भी जा सकता है. तो हमे नहीं लगता कि आप ऐसा कुछ चाहोगे. तो दोस्तों अभी से आप अपने बच्चे के दोस्त बन जाये उनसे अपनी बात शेयर करे, उनकी problems को जानने की कोशिश करे, उन्हें समझाये और सही guide करे.

तो दोस्तों आपको ये आर्टिकल कैसा लगा, हमे comment करके बताये. अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो प्लीज इस आर्टिकल को शेयर और like जरुर करे. दोस्तों हमारे साथ बने रहने के लिये thanks.

loading...

About the Author: Neha Sharma

Hi, friends मेरा नाम नेहा शर्मा है और में professional blogger हु. इस blog को बनाने का मेरा main मकसद ये है कि, मैं महिलाओ और लडकियों कि problem को solve कर सकु.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *