कमजोर नजरे : बच्चो की आखो की नजरे कैसे तेज करे

तो कैसे हो आप लोग, दोस्तों आज का आर्टिकल है कि, “बच्चो की आखो की रौशनी कैसे तेज करे”. लोगो का मानना है कि, उम्र के साथ साथ आखो की रौशनी का कम होना आम बात है पर अगर बच्चो में ही आखो की रौशनी का कम होना हो तो ये बात थोडी अजीब सी लगती है. एक बार अगर बच्चो को चश्मा या आखो में लेंस लग गए तो ये चीज़ जिंदगी भर तक पीछा नहीं छोडती. अगर बच्चो में आखो की रौशनी का कम होने का reason जाना जाये तो सभी doctors का ये मानना है कि, लगातार पढाई करना, बाहर की activity कम करना या electronics का इस्तेमाल ज्यादा करना ये कुछ कारण है.

एक अच्छे माता पिता होने के नाते ये आपकी जिम्मेदारी बनती है कि, अपने बच्चो को इस परेशानी से आजाद करवाये. अपने बच्चो पर थोडा दिया गया ध्यान आपके बच्चो की रौशनी को दुबारा तेज कर सकती है. इस आर्टिकल को पढ़े और समझे कि, वो कोन से कारण है कि, आपके बच्चो की आखो की रौशनी कमजोर हुयी है? और बच्चो की आपको की रौशनी को कैसे तेज करे?

कमजोर नजरे बच्चो की आखो की नजरे कैसे तेज करे

बच्चो की नजरे कमजोर क्यों होती है

अपने बच्चो की आखो की रौशनी तेज करने से पहले आपको कुछ कारणों को जानना होगा कि, किन कारणों की वजह से आपके बच्चो की आखो की रौशनी कमजोर हुयी है? पहले उन कारणों को जाने और दुबारा दोहराये नहीं.

1. Electronics का ज्यादा इस्तेमाल

जैसे जैसे वक्त गुजरता गया वैसे वैसे हमारे लोगो ने कुछ ना कुछ नया सीखा और electronics gadgets का आविष्कार किया. जितना electronics gadgets हमारे लिये अच्छा सहूलियत साबित हुआ उतना ही ये चीज़ हमारे लिये नुकसानदायक रहा. Electronics gadgets से हमारा मतलब mobile phone, laptop, compute, tablets, TV etc etc. ये चीज़े आजकल बच्चो की पहली पसंद बन गयी है और 24सो घंटे बच्चे इन चीजों को इस्तेमाल करना पसंद करते है. जब बच्चे इनका इस्तेमाल करते है तो ना तो उनकी body हिलती है और ना ही उनकी आखे झपकती है जिस वजह से गैजेट्स की lights बच्चो के आप्खो पर negative effect डालते है. यही एक कारण है कि, बच्चो की आखो की रौशनी कमजोर हो रही है.

2. बदलता हुवा वक्त

हा आप बदलता हुआ वक्त भी एक कारण मान सकते है. पहले के time में लोग बाहर घुमते थे, बाहर खेलते थे, लोगो से बात करते थे. पर आज का वक्त पहले के वक्त से बहुत ज्यादा बदल चूका है. आज के time में लोगो में बहुत कम्पटीशन बढ़ चुका है…………. जिस कारण से बच्चे पढाई पर ज्यादा ध्यान देने लगे है. ऐसे में बच्चे बाहर जाना पसंद नहीं करते………. थोडा बहुत उन्हें जो वक्त मिलता है वो उस वक्त में electronics gadgets इस्तेमाल करना ज्यादा पसंद करते है.

3. सूरज की रौशनी ना लेने के कारण

जैसे की आप सभी को पता है कि, सूरज की रौशनी vitamin-D देता है जो हमारे body के लिये बहुत लाभदायक है. सूरज की रौशनी डोपामाइन रिलीज़ करता है जो आपकी आखो की रौशनी को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाता है. अब आप हमे एक बात बताये कि, जब बच्चे घर से बाहर ही नहीं निकालेंगे तो सूरज की रौशनी कैसे ले पायेंगे. एक शोध से पता लगा है कि, लगातार घर में रहने से और dim light में पढाई करने से बच्चो की आखो की रौशनी कमजोर होती है.

कैसे करे बच्चो की नजर तेज

दोस्तो इस भाग में हम आपको कुछ ऐसे tips बतायेंगे जिसकी मदद से आप अपने बच्चो की आखो की रौशनी तेज कर पाओगे.

1. खान पान अच्छा रखे

एक ही तरह का खान पान रखने से आपके बच्चो की आखे तेज नहीं होगी. पहले आपको ये जानना होगा कि, आखो के लिये कोन कोन से पोषक तत्वों की जरुरत होती है. अगर खाने की बात करे तो आपको खाने में हरी सब्जिया, काले, ब्रोकोली, और पालक का इस्तेमाल करना चाहिये. इसके साथ साथ अगर हम fruits कि बात करे तो विशेष रूप से कीवी, नारंगी, और अंगूर का सेवन करवाये. अगर आप और आपके बच्चे meat खाते है तो ये आपके बच्चो की आखो के लिये बहुत अच्छा है. मछली, खासकर सैल्मन और सार्डिन में omega-3 fatty acids मोजूत होता है जो आपके बच्चो के आखो के लिये बहुत ही अच्छा होता है.

2. Eye Exercise करे

क्या होता है कि, जब हम पढाई या TV में इतना खो जाते है की हमे पता ही नहीं लगता तब हमारी आखे झपकी नहीं लेती जिस वजह से सूखापन और आइस्टस्ट्रेन बढ़ जाती है. तो ऐसे में आपको अपनी आखो को झपकाना शुरू करना होगा……….. आपको करना कुछ नहीं है बस अपने काम के बीच में 5 मिनट का break ले और उस 5 मिनट में हर 3 से 4 second के बीच में अपने आखो को झपके………. इससे आपको राहत मिलेगी.

अगर आप ये नहीं करना चाहते है तो आपके लिये हमारे पास दूसरा एक्सरसाइज है. आपको करना कुछ नहीं है बस दिवार पर एक बिंदु बना ले और 20 फीट की दुरी पर रहे और उस बिंदु पर 1 मिनट तक फोकस करे……………………… ऐसा ही 2 से 3 बारी करे.

अगर आपको लगता है कि, ये उपाय काम नहीं आरही है तो आप eye doctors की सलाह पर चल सकते है. Eye doctors आपकी आखो के हिसाब से कुछ exercise suggest करेंगे.

3. आखो का मेडिकल जाच करवाये

अगर आप अपने बच्चो की आखो के लिये बहुत serious है तो आपको तुरंत medical checkup करवाना चाहिये. Eye doctor आपके बच्चे का पूरा checkup करेंगे और problem को find करेंगे की, किन कारणों से आखे damage हो रही है.

तो दोस्तों यहा पर हो चूका है हमारा आर्टिकल खत्म….. अगर आपको लगता है कि, इस आर्टिकल में और भी जानकारी होनी चाहिये तो आप हमे comment के through बता सकते है. अगर आपको ये आर्टिकल लगा हो बहुत अच्छा तो तुरंत इस आर्टिकल को शेयर और like करे. हमारे साथ बने रहने के लिये thanks.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here